I'll Earn a little from this :)

Monday, June 20, 2016

दिल में है दर्द, तो ग़ज़ल करना पडेगा...



अपने शब्दों को थोडा सरल करना पडेगा.
दिल में है दर्द, तो ग़ज़ल करना पडेगा..
गर बनना है सूरज, चमकने के लिये तो.
दोस्तों अन्दर ही अन्दर, जलना पडेगा..
मन्जिलों तक पहुँचना है तो रस्तों पर.
तन्हा बहोत दूर तक, चलना पडेगा..
बदलाव कोई बडा, लाना है तो 'श्वेत'.
पहले खुद अपने आप को बदलना पडेगा..
वरिष्ठ जनों का हार, बनाने के लिये माली को.
कुछ मासूम फूलों को, मसलना पडेगा...

No comments:

Post a Comment