Play a Game

Saturday, June 18, 2016

एक गीत



ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे
प्रभु का मन हर लो
ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे 
प्रभु के संग हो लो ...
सेस गनेस महेस दिनेस
पूछे ऊधो से हरि का पता
माँ का पता दूँ या राधा कहूँ
या दूँ किसी ग्वालन का ठिकाना
ऊधो ना समझे कहाँ कहाँ जाए
हार के अपने मन में ही गाए ...
ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे
प्रभु का मन हर लो
ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे
प्रभु के संग हो लो ...
काग के भाग देख सब जरी जरी जाए
हरि हाथ से वो तो माखन रोटी खाए
धूरि से लिपटी हरि की काया
गोकुळ के आँगन पैंजनिया बजाये
हरि को पाने को सब हैं बेचैन
हर्षित मन हुलस हुलस गाए
ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे
प्रभु का मन हर लो
ओ छोहरियों
छछिया भर छाछ पे
प्रभु के संग हो लो ...

1 comment:

Bitcoin