Play a Game

Sunday, April 24, 2016

"दिल की कलम से" - A Gift for Someone you really Love and Care

  

यह लेख पिछली करवा चौथ के दिन लिखा थाजो मैं आज आप सभी के साथ शेयर करना चाहता हूँ|

करवा चौथ का दिन जिसमे सभी भारतीय नारियाँ अपने पति की लंबी उम्र की सलामती के लिए व्रत रखती हैंत्याग और सम्मान की भावना तो नारी में शुरू से ही रही हैबचपन में वो अपने भाई के लिए अनेकों बार त्याग करती हैशादी होने के बाद उसे सिखाया जाता है और कहा जाता है की वो अपने सास-ससुर को माता-पिता समान समझेहमेशा उनकी सेवा करेपति को परमेश्वर के समान समझेहर कठिनाई में हर मुसीबत में पति का साथ देमैं आज उन सभी पुरुषों से कहना चाहता हूँ जो की एक भाई हैपति हैससुर हैजेठ हैदेवर है कि क्या सारा का सारा दायित्व ही नारियों का हैक्या हम उनके दायित्वों काउनके कर्तव्यों का भार साथ में हम क्यों नही उठाते हैंजैसा व्यवहारजैसा सम्मान हम नारियों से चाहते हैंवैसा ही प्यारसम्मानआदर हम अपनी बहनपत्नीमाताओं को देंअगर इस पुरुष प्रधान वाले देश में अगर हम सभी के अंदर इस तरह की भावना जाएगी तो हमारे देश में आए दिन होने वाले कुकर्म समाप्त हो जाएँगेजितना आपकी पत्नी आपसे प्यार करती हैआप पर विश्वास रखती हैआप भी उसे दुगना प्यार दें और उस पर विश्वास रखेंऐसा करने से जीवन सफल हो जाएगाआपके अंदर की आत्मग्लानि ख़त्म हो जाएगीदो लाइने उस पत्नी के नाम प्रस्तुत कर रहा हूँ जो मेरी लंबी आयु के लिए व्रत रख रही हैमेरे घर आने का इंतज़ार कर रही है :-

"करवा चौथ के दिन अब मैंउन वादों को दोहराऊंगा|

सात वचन जो तुमको दिये थेजिंदगी भर निभाऊंगा |



-----Your Loving Husband.

0

Sunday, April 3, 2016

हौसलों की उड़ान

                          
यदि इंसान छोटी से छोटी चीजों पर ध्यान दे तो कई बार हमे जिंदगी से बहुत सारी सीख मिलती है| आज जब में सुबह नहा रहा था तो मैने गौर से देखा कि एक छोटा सा रैंगने वाला जीव पानी में बह रहा था, जैसा मेने देखा कि उसको लग रहा था की वो पानी में डूब जाएगा एवम् वह अपने प्राण गँवा देगा इसीलये वह पानी के विपरीत जाने की भरपूर कोशिश कर रहा था| आख़िरकार वह अपनी कोशिश में कामयाब रहा और वह तैरकर पानी से बाहर की और निकल गया| जैसे ही वह पानी से बाहर निकला, कीड़े की एनर्जी देखने लायक थी,जैसे की उसको नई जिंदगी मिल गई हो और वो बड़ी ही फुर्ती से दीवार पर चढ़ गया| इस घटना से मुझे एक सीख मिली की एक रेंगने वाला कीड़ा सर्वाइव करने के लिए जब इतना हौसला कर सकता है तो हम तो इंसान हैं, हम जिंदगी की छोटी छोटी परेशानियों से इतनी जल्दी कैसे हिम्मत हर जाते हैं, हताश हो जाते हैं| यहाँ तक की कई बार तो हम अपनी जिंदगी ही खत्म कर लेते हैं| इस प्रकर्ति में भगवान की सबसे सुंदर रचना इंसान की है| इंसान को सभी कुछ मिला है जो और जीव जंतुओं को नही मिल पाया है| इस लेख के ज़रिए में आप सभी से यही कहना चाहता हूँ की इस जिंदगी में सुख-दुख चलते रहेंगे बस हमें हर वक्त मुस्कुराते हुए सदैव ईश्वर में विश्वास रखते हुए चलते रहना है| हमें पता है की कोई भी चीज सदा के लिए नही है, ना ही अच्छा वक़्त सदैव रहता है और ना ही बुरा वक्त सदैव रहेगा|
इस लेख को में यही कहते हुए खत्म करना चाहूँगा की यह अन्त नही है, यह तो शुरुवात है......
       "ये वक्त ना ठहरा है,ये वक्त ना ठहरेगा|
        यूँ ही ये गुजर जाएगा, घबराना कैसा|"                     
ये हौसलों की उड़ान है...सदैव चलते रहिए...ज़य हिंद||
2

Bitcoin